राजस्थान की जनसंख्या

राजस्थान की जनसंख्या
>    राजस्थान की जनसंख्या:- 5,65,73,122
>    सन् 1901 में राजस्थान की जनसंख्या 1.03 करोड़ थी।
>    सन् 1911 में 1.10 करोड़ थी।
>    सन् 1921 में 1.02 करोड़ थी।
>    अर्थशास्त्र और आईन--अकबरी में जनगणाना का उल्लेख मिलता हैं।
>    पहली बार जनगणना का प्रावधान सन् 1872 में हुई, लेकिन सन् 1881 में नियमित जनगणना हो रही हैं।
>    सन् 2011 के बाद दस साल से होने वाली जनगणना नहीं होगी।
>    सन् 1921 में प्रथम महायुद्ध एवं अकाल के कारण पहली बार जनसंख्या वृद्धि दर ऋणात्मक रही थी।
>    जनसंख्या वृद्धि की दृष्टि से भारत तीसरे चरण से चौथे चरण में प्रवेष कर रहा है
>    भारत की वार्षिंक जनसंख्या वृद्धि दर 1.9 % हैं।
>    सन् 1961 (1951-1961) में भारत की जनसंख्या का महान छलांग का वर्षं कहलाता हैं।
>    सन् 1921 का वर्ष विभाजक का वर्ष कहलाता हैं।
>    राजस्थान में पुरूषों की संख्या 294.20 लाख हैं।
>    सन् 1991 से 2001 के मध्य राजस्थान में जनसंख्या वृद्धि 125 लाख की हुई। जो 28.43 % रही।
>    जनसंख्या घनत्व 165 हैं।
>    लिंगानुपात 922 हैं।
>    महिलाए 271 लाख हैं।

-    राजस्थान की जनसंख्या:-
>    राजस्थान का क्षेत्रफल भारत के कुल क्षेत्रफल का 10.41 % हैं। जिसमें 5.5 % जनसंख्या निवास करती हैं।
>    सर्वांधिक जनसंख्या वाला संभाग जयपुर हैं।
>    सबसे कम जनसंख्या वाला संभाग कोटा हैं।
>    जयपुर शहर की जनसंख्या 23 लाख हैं। यह एकमात्र नगर हैं जिसकी जनसंख्या 20 लाख से अधिक हैं।
>    कुल 20 नगर ऐसे हैं जिनकी जनसंख्या 1 लाख से अधिक हैं।
>    10 लाख से अधिक जनसंख्या वाले नगरों में एकमात्र जयपुर हैं।
>    सर्वांधिक जनसंख्या वाले जिलें:- जयपुर, अलवर, जोधपुर, नागौर हैं।
-    अनुसूचित जनजाति:-
>    राजस्थान की अनुसूचित जनजाति की जनसंख्या 12.56 % हैं, जो भारत की तुलना में अधिक हैं।
>    सर्वांधिक अनुसूचित जनजाति की संख्या उदयपुर में हैं।
>    सर्वांधिक अनुसूचित जनजाति का प्रतिषत बांसवाड़ा में हैं।
>    सबसे कम अनुसूचित जनजाति की संख्या बीकानेर में हैं।
>    सबसे कम अनुसूचित जनजाति का प्रतिषत नागौर में हैं।
-    अनुसूचित जाति:-
>    राजस्थान में अनुसूचित जाति की जनसंख्या 17.16 %  हैं जो भारत की तुलना में लगभग 1% अधिक हैं।
>    सर्वांधिक अनुसूचित जाति की संख्या जयपुर में हैं।
>    सबसे कम अनुसूचित जाति की संख्या डूंगरपुर में हैं।
>    सर्वांधिक अनुसूचित जाति का प्रतिषत गंगानगर में हैं।
>    सबसे कम अनुसूचित जाति का प्रतिषत डूंगरपुर में हैं।
>    राजस्थान का सबसे कम जनसंख्या वाला शहर बोरखेड़ा (बांसवाड़ा) हैं।
S.C    जयपुर        -    डूंगरपुर        संख्या
गंगानगर        -    डूंगरपुर         %
S.T    उदयपुर        -    बीकानेर        संख्या
बांसवाड़ा    -    नागौर        %
>    लिंगानुपात:- 922
>    1000 पुरूषों पर महिलाओं की संख्या 922
>    राजस्थान का नगरीय लिंगानुपात 890
>    राजस्थान का ग्रामीण लिंगानुपात 930
>    सर्वांधिक लिंगानुपात वाला जिला:- टोंक (942)
>    सबसे कम लिंगानुपात वाला जिला:- जैसलमेर (785)
>    सार्वांधिक ग्रामीण लिंगानुपात वाला जिला:- डूंगरपुर (1035)
>    सबसे कम ग्रामीण लिंगानुपात वाला जिला:- धौलपुर (821)
>    सर्वांधिक लिंगानुपात वाला नगर:- टोंक (934)
>    न्यूनतम लिंगानुपात वाला नगर:- गंगानगर (828)
>    सर्वांधिक लिंगानुपात वाला संभाग:- उदयपुर
>    न्यूनतम लिंगानुपात वाला संभाग:- भरतपुर
>    जनसंख्या घनत्व:- 165 प्रति वर्ग कि.मी. हैं।
>    भारत का जनसंख्या घनत्व:- 324 प्रति वर्ग कि.मी. हैं।
>    राजस्थान का पूर्वी भाग (उत्तरी-पूर्वीं) मैदानी भाग सर्वांधिक घना बसा प्रदेष हैं।
>    पष्चिमी मरूस्थलीय प्रदेष न्यूनतम जनसंख्या घनत्व वाला क्षेत्र /भौगोलिक प्रदेष हैं।
>    जयपुर का जनसंख्या घनत्व:- 471 सर्वांधिक हैं।
>    भरतपुर का जनसंख्या घनत्व:- 414 हैं।
>    दौसा का जनसंख्या घनत्व:- 384 हैं।
>    सबसे कम जनसंख्या घनत्व 13 जैसलमेर का हैं।
>    बीकानेर का जनसंख्या घनत्व 61 हैं।
>    बाड़मेर का जनसंख्या घनत्व 69 हैं।
>    जनसंख्या नीति लागू करने वाला राजस्थान भारत का दूसरा राज्य हैं। यह सन् 2000 में शुरू की गई थी।
>    आंध्रप्रदेष जनसंख्या नीति लागू करने वाला पहला राज्य हैं।
>    परिवार नियोजन कार्यक्रम सन् 1951 से शुरू हैं।
>    भारत पहला ऐसा देष हैं जिसने सन् 1951 में परिवार नियोजन कार्यक्रम शुरू किया।
>    1 जून, 2002 के बाद 2 से अधिक बच्चे होने पर सरकारी नौकरी से वंचित रखने का प्रावधान हैं।
>    प्रजनन और षिषु स्वास्थ्य कार्यक्रम सन् 1997 में शुरू किया गया।
-    साक्षरता:-
>    सर्वांधि साक्षरता:- कोटा
>    सबसे कम साक्षरता:- बांसवाड़ा
>    सर्वांधिक पुरूष साक्षरता:- झुन्झनु
>    सबसे कम पुरूष साक्षरता:- बांसवाड़ा
>    सर्वांधिक महिला साक्षरता:- कोटा
>    सबसे कम महिला साक्षरता:- जालौर
>    सर्वांधिक शहरी साक्षरता, शहरी पुरूष साक्षरता, शहरी महिला साक्षरता:- उदयपुर
>    सर्वांधिक ग्रामीण साक्षरता, ग्रामीण पुरूष -महिला साक्षरता:- झुन्झनु
>    न्यूनतम ग्रामीण साक्षरता, पुरूष साक्षरता, महिला साक्षरता, बांसवाड़ा
>    न्यूनतम शहरी साक्षरता:- जालौर में।
>    न्यूनतम शहरी पुरूष साक्षरता:- धौलपुर में
>    न्यूनतम शहरी महिला साक्षरता:- जालौर में
-    सत्येन मैत्रेय पुरस्कार:- यह पुरस्कार सर्वांधिक 2 बार चित्तौड़गढ़ को मिल चुका हैं।
>    जिला स्तर पर दिया जाने वाला यह पुरस्कार षिक्षा का (साक्षरता के लिए) सबसे बड़ा पुरस्कार हैं।
>    यह पुरस्कार भारत सरकार देती हैं।
>    सन् 2008 का यह पुरस्कार उदयपुर को मिला हैं।
>    प्रत्येक वर्ष यह पुरस्कार पूरे भारत में अधिकतम 5 जिलों को मिलता हैं।
-    ऑपरेषन ब्लैक बोर्ड (1987):-
>    विद्यालय में आधारभूत सुविधाऐं उपलब्ध करवाने हेतु यह सन् 1987 में शुरू किया गया था।
>    अजमेर, डूंगरपुर, भरतपुर साक्षरता की दृष्टि से सम्पूर्ण साक्षर जिले हैं।
>    अजमेर पहला साक्षर जिला हैं।
>    पहला आदिवासी साक्षर जिला डूंगरपुर हैं।
>    उत्तर साक्षरता कार्यक्रम वाला पहला जिला भरतपुर हैं।
-    साक्षरता कार्यक्रम को 3 चरणों में विभाजित किया गया हैं:-
1. सम्पूर्ण साक्षरता कार्यक्रम        2. उत्तर साक्षरता कार्यक्रम     3. सतत् साक्षरता कार्यक्रम
>    सन् 2001 में राजस्थान को शताब्दी साक्षरता पुरस्कार और शताब्दी महिला साक्षरता पुरस्कार से सम्मानित किया गया हैं।
>    राजस्थान की शहरी महिला साक्षरता 65.42 % हैं।
>    ग्रामीण महिला साक्षरता 37.74 % हैं।
>    पुरूष शहरी साक्षरता 87.10 % हैं।
>    पुरूष ग्रामीण साक्षरता 72.96 % हैं।
>    कुल शहरी साक्षरता 76.9 % हैं।
>    कुल ग्रामीण साक्षरता 55.92 % हैं।
>    कुल महिला साक्षरता 43.9 % हैं।
>    कुल पुरूष साक्षरता 75.7 % हैं।
>    राजस्थान की कुल साक्षरता 60.04 % हैं।

राजस्थान की जनसंख्या

राजस्थान की जनसंख्या
>    राजस्थान की जनसंख्या:- 5,65,73,122
>    सन् 1901 में राजस्थान की जनसंख्या 1.03 करोड़ थी।
>    सन् 1911 में 1.10 करोड़ थी।
>    सन् 1921 में 1.02 करोड़ थी।
>    अर्थशास्त्र और आईन--अकबरी में जनगणाना का उल्लेख मिलता हैं।
>    पहली बार जनगणना का प्रावधान सन् 1872 में हुई, लेकिन सन् 1881 में नियमित जनगणना हो रही हैं।
>    सन् 2011 के बाद दस साल से होने वाली जनगणना नहीं होगी।
>    सन् 1921 में प्रथम महायुद्ध एवं अकाल के कारण पहली बार जनसंख्या वृद्धि दर ऋणात्मक रही थी।
>    जनसंख्या वृद्धि की दृष्टि से भारत तीसरे चरण से चौथे चरण में प्रवेष कर रहा है
>    भारत की वार्षिंक जनसंख्या वृद्धि दर 1.9 % हैं।
>    सन् 1961 (1951-1961) में भारत की जनसंख्या का महान छलांग का वर्षं कहलाता हैं।
>    सन् 1921 का वर्ष विभाजक का वर्ष कहलाता हैं।
>    राजस्थान में पुरूषों की संख्या 294.20 लाख हैं।
>    सन् 1991 से 2001 के मध्य राजस्थान में जनसंख्या वृद्धि 125 लाख की हुई। जो 28.43 % रही।
>    जनसंख्या घनत्व 165 हैं।
>    लिंगानुपात 922 हैं।
>    महिलाए 271 लाख हैं।

-    राजस्थान की जनसंख्या:-
>    राजस्थान का क्षेत्रफल भारत के कुल क्षेत्रफल का 10.41 % हैं। जिसमें 5.5 % जनसंख्या निवास करती हैं।
>    सर्वांधिक जनसंख्या वाला संभाग जयपुर हैं।
>    सबसे कम जनसंख्या वाला संभाग कोटा हैं।
>    जयपुर शहर की जनसंख्या 23 लाख हैं। यह एकमात्र नगर हैं जिसकी जनसंख्या 20 लाख से अधिक हैं।
>    कुल 20 नगर ऐसे हैं जिनकी जनसंख्या 1 लाख से अधिक हैं।
>    10 लाख से अधिक जनसंख्या वाले नगरों में एकमात्र जयपुर हैं।
>    सर्वांधिक जनसंख्या वाले जिलें:- जयपुर, अलवर, जोधपुर, नागौर हैं।
-    अनुसूचित जनजाति:-
>    राजस्थान की अनुसूचित जनजाति की जनसंख्या 12.56 % हैं, जो भारत की तुलना में अधिक हैं।
>    सर्वांधिक अनुसूचित जनजाति की संख्या उदयपुर में हैं।
>    सर्वांधिक अनुसूचित जनजाति का प्रतिषत बांसवाड़ा में हैं।
>    सबसे कम अनुसूचित जनजाति की संख्या बीकानेर में हैं।
>    सबसे कम अनुसूचित जनजाति का प्रतिषत नागौर में हैं।
-    अनुसूचित जाति:-
>    राजस्थान में अनुसूचित जाति की जनसंख्या 17.16 %  हैं जो भारत की तुलना में लगभग 1% अधिक हैं।
>    सर्वांधिक अनुसूचित जाति की संख्या जयपुर में हैं।
>    सबसे कम अनुसूचित जाति की संख्या डूंगरपुर में हैं।
>    सर्वांधिक अनुसूचित जाति का प्रतिषत गंगानगर में हैं।
>    सबसे कम अनुसूचित जाति का प्रतिषत डूंगरपुर में हैं।
>    राजस्थान का सबसे कम जनसंख्या वाला शहर बोरखेड़ा (बांसवाड़ा) हैं।
S.C    जयपुर        -    डूंगरपुर        संख्या
गंगानगर        -    डूंगरपुर         %
S.T    उदयपुर        -    बीकानेर        संख्या
बांसवाड़ा    -    नागौर        %
>    लिंगानुपात:- 922
>    1000 पुरूषों पर महिलाओं की संख्या 922
>    राजस्थान का नगरीय लिंगानुपात 890
>    राजस्थान का ग्रामीण लिंगानुपात 930
>    सर्वांधिक लिंगानुपात वाला जिला:- टोंक (942)
>    सबसे कम लिंगानुपात वाला जिला:- जैसलमेर (785)
>    सार्वांधिक ग्रामीण लिंगानुपात वाला जिला:- डूंगरपुर (1035)
>    सबसे कम ग्रामीण लिंगानुपात वाला जिला:- धौलपुर (821)
>    सर्वांधिक लिंगानुपात वाला नगर:- टोंक (934)
>    न्यूनतम लिंगानुपात वाला नगर:- गंगानगर (828)
>    सर्वांधिक लिंगानुपात वाला संभाग:- उदयपुर
>    न्यूनतम लिंगानुपात वाला संभाग:- भरतपुर
>    जनसंख्या घनत्व:- 165 प्रति वर्ग कि.मी. हैं।
>    भारत का जनसंख्या घनत्व:- 324 प्रति वर्ग कि.मी. हैं।
>    राजस्थान का पूर्वी भाग (उत्तरी-पूर्वीं) मैदानी भाग सर्वांधिक घना बसा प्रदेष हैं।
>    पष्चिमी मरूस्थलीय प्रदेष न्यूनतम जनसंख्या घनत्व वाला क्षेत्र /भौगोलिक प्रदेष हैं।
>    जयपुर का जनसंख्या घनत्व:- 471 सर्वांधिक हैं।
>    भरतपुर का जनसंख्या घनत्व:- 414 हैं।
>    दौसा का जनसंख्या घनत्व:- 384 हैं।
>    सबसे कम जनसंख्या घनत्व 13 जैसलमेर का हैं।
>    बीकानेर का जनसंख्या घनत्व 61 हैं।
>    बाड़मेर का जनसंख्या घनत्व 69 हैं।
>    जनसंख्या नीति लागू करने वाला राजस्थान भारत का दूसरा राज्य हैं। यह सन् 2000 में शुरू की गई थी।
>    आंध्रप्रदेष जनसंख्या नीति लागू करने वाला पहला राज्य हैं।
>    परिवार नियोजन कार्यक्रम सन् 1951 से शुरू हैं।
>    भारत पहला ऐसा देष हैं जिसने सन् 1951 में परिवार नियोजन कार्यक्रम शुरू किया।
>    1 जून, 2002 के बाद 2 से अधिक बच्चे होने पर सरकारी नौकरी से वंचित रखने का प्रावधान हैं।
>    प्रजनन और षिषु स्वास्थ्य कार्यक्रम सन् 1997 में शुरू किया गया।
-    साक्षरता:-
>    सर्वांधि साक्षरता:- कोटा
>    सबसे कम साक्षरता:- बांसवाड़ा
>    सर्वांधिक पुरूष साक्षरता:- झुन्झनु
>    सबसे कम पुरूष साक्षरता:- बांसवाड़ा
>    सर्वांधिक महिला साक्षरता:- कोटा
>    सबसे कम महिला साक्षरता:- जालौर
>    सर्वांधिक शहरी साक्षरता, शहरी पुरूष साक्षरता, शहरी महिला साक्षरता:- उदयपुर
>    सर्वांधिक ग्रामीण साक्षरता, ग्रामीण पुरूष -महिला साक्षरता:- झुन्झनु
>    न्यूनतम ग्रामीण साक्षरता, पुरूष साक्षरता, महिला साक्षरता, बांसवाड़ा
>    न्यूनतम शहरी साक्षरता:- जालौर में।
>    न्यूनतम शहरी पुरूष साक्षरता:- धौलपुर में
>    न्यूनतम शहरी महिला साक्षरता:- जालौर में
-    सत्येन मैत्रेय पुरस्कार:- यह पुरस्कार सर्वांधिक 2 बार चित्तौड़गढ़ को मिल चुका हैं।
>    जिला स्तर पर दिया जाने वाला यह पुरस्कार षिक्षा का (साक्षरता के लिए) सबसे बड़ा पुरस्कार हैं।
>    यह पुरस्कार भारत सरकार देती हैं।
>    सन् 2008 का यह पुरस्कार उदयपुर को मिला हैं।
>    प्रत्येक वर्ष यह पुरस्कार पूरे भारत में अधिकतम 5 जिलों को मिलता हैं।
-    ऑपरेषन ब्लैक बोर्ड (1987):-
>    विद्यालय में आधारभूत सुविधाऐं उपलब्ध करवाने हेतु यह सन् 1987 में शुरू किया गया था।
>    अजमेर, डूंगरपुर, भरतपुर साक्षरता की दृष्टि से सम्पूर्ण साक्षर जिले हैं।
>    अजमेर पहला साक्षर जिला हैं।
>    पहला आदिवासी साक्षर जिला डूंगरपुर हैं।
>    उत्तर साक्षरता कार्यक्रम वाला पहला जिला भरतपुर हैं।
-    साक्षरता कार्यक्रम को 3 चरणों में विभाजित किया गया हैं:-
1. सम्पूर्ण साक्षरता कार्यक्रम        2. उत्तर साक्षरता कार्यक्रम     3. सतत् साक्षरता कार्यक्रम
>    सन् 2001 में राजस्थान को शताब्दी साक्षरता पुरस्कार और शताब्दी महिला साक्षरता पुरस्कार से सम्मानित किया गया हैं।
>    राजस्थान की शहरी महिला साक्षरता 65.42 % हैं।
>    ग्रामीण महिला साक्षरता 37.74 % हैं।
>    पुरूष शहरी साक्षरता 87.10 % हैं।
>    पुरूष ग्रामीण साक्षरता 72.96 % हैं।
>    कुल शहरी साक्षरता 76.9 % हैं।
>    कुल ग्रामीण साक्षरता 55.92 % हैं।
>    कुल महिला साक्षरता 43.9 % हैं।
>    कुल पुरूष साक्षरता 75.7 % हैं।
>    राजस्थान की कुल साक्षरता 60.04 % हैं।