राजस्थान की सभ्यताएँ

राजस्थान की सभ्यताएँ
राजस्थान की प्राचीन सभ्यताएँ
  •   ताम्रयुगीन सभ्यता
  •   लौहयुगीन सभ्यता
राजस्थान की ताम्रयुगीन सभ्यताएँ:-
कालीबंगा:-
  • कालीबंगा स्थल हनुमानगढ़ जिले में हैं। इसका शाब्दिक अर्थ हैं काली चूड़ियाँ (सिन्धु लिपि का शब्द) है।
  • यह एक नगरीय सभ्यता थी जो तत्कालीन सरस्वती और दृष्द्धती नदियों के किनारे पनपी वर्तमान में घग्घर नदी के तट पर स्थित हैं।
  • कालीबंगा की खोज अमलानन्द घोष ने सन् 1952 में की। इसके उत्खनन का कार्य बी.बी.लाल एव बी. के.थापर ने किया।
  • कालीबंगा एक किलेबन्द बस्ती थी। इसका परकोटा कच्ची ईंटों का था।
  • कालीबंगा से प्राकहड़प्पा हड़प्पाकालीन संस्कृति के अवषेष मिलें हैं।
  • प्राक हड़प्पा कच्ची बस्ती थी जो चारों ओर परकोटों से सुरक्षित थी। प्राकहड़प्पा से जूते हुए खेतों के प्रमाण, गेहूँ और जौं के साक्ष्य मिलें हैं।
हड़प्पाकालीन संस्कृति:-
  • पष्चिम का टीला:- उच्च टीला, निम्न गढ़, दुर्गराजा, प्रषासनिक वर्ग, धर्मगुरू
  • पूर्व का टीला:- पूर्व का टीला, नगरीयगढ़, निम्न टिला
  • पूर्व के टिलें से सात अग्निवेदिया मिली हैं, जो धर्म अनुष्ठान के प्रतीक हैं।
  • कालीबंगा से तांबा हड़प्पावासीयों को भेजा जाता था। कालीबंगा के उत्खनन से मिली सामग्री में मिट्टी के बर्तन, बेल की खण्डित मूर्ति, शंख, मणके, चुड़िया आदि प्रमुख हैं।
आहड़ सभ्यता:-
  • आहड़ जयपुर से 2/3 मील दूरी पर स्थित एक कस्बा हैं, जो बनास बेड़च के संगम पर स्थित हैं।
  • आहड़ सभ्यता कोताम्रवती नगरी’, ‘बनास संस्कृतितथा स्थानीय भाषा मेंधूलकोटकहते हैं।
  • इसी खोज सन् 1854 में आर.सी.अग्रवाल (रतनचन्द) ने की थी एवं इसका उत्खनन एच.डी.सांकलिवया ने किया था।
  • आहड़ सभ्यता का फैलाव उदयपुर, चित्तौड़गढ़, भीलवाड़ा डूंगरपुर में था।
  • यहां ताम्र उद्योग विकसित अवस्था में था। यहां से ताम्रछल्ले, चुड़िया, सुरमा डालने की सलाइयां मिले हैं।
  • आहड़ सभ्यता एक ग्रामीण सभ्यता थीं। यहां पर गेहूँ, जौ, चावल आदि उगाया जाता था।
गणेषवर सभ्यता:-
  • यहनीम का थानासीकर में कान्तली नदी के किनारे पनपी थी
  • इसकी खोज आर.सी.अग्रवाल (रतनचन्द) ने की थी।
  • गणेष्वर सभ्यता को ‘‘ताम्रयुगीन सभ्यताओं की जननी’’ कहते हैं।
  • यहां पर तीर, भालें, कुल्हाड़िया आदि मिलें हैं।
राजस्थान की लौहयुगीन सभ्यता:-
बैराठ (जयपुर):-
  • यह एक लौहयुगीन सभ्यता हैं। इसका प्राचीन नाम विराटनगर हैं। यह प्राचीन मत्स्य जनपद की राजधानी थी।
  • यहां से मध्यपाषाणकालीन उपकरण मिलें हैं।
  • बैराठ से स्वास्तिक अषोक का भाब्रु षिलालेख मिलें हैं।
  • कैप्टन बर्ट ने यहां बिजक की पहाड़ियों को खोजा, जिसे उन्होने बिजक डूंगरी नाम दिया।
  • बैराठ से मौर्यकालीन सभ्यता के अवषेष भी मिले हैं।
  • अषोक का भाब्रु षिलालेख ब्राह्यमी लिपी में लिया गया हैं। अषोक के मुल 13 षिलालेख हैं।
नोह (भरतपुर):-
  • यहां से कुषाणकालीन मौर्यकालीन सभ्यता के अवषेष मिलें हैं।
रेढ़ (टोंक):-
  • इसे प्राचीन राजस्थान का टाटानगर कहते हैं।
  • यहां से लौह-अयस्क के अवषेष प्राप्त हुए हैं। पूर्व गुप्तकालीन सभ्यता के अवषेष मिलें हैं।
सुनारी (झुंझुनूं):-
  • यह एक लौहयुगीन सभ्यता हैं। यहां से लोहे की भट्टीया मिली हैं।
रंगमहल:-
  • यह हनुमानगढ़ में घग्घर नदी के तट पर स्थित हैं।
  • इसकी खोज स्वीडष दल ने की यहां से कुषाणकालीन और गुप्तकालीन सभ्यता के अवषेष मिलें हैं।
  • यह एक ताम्रयुगीन सभ्यता हैं।
बालाथल:-
  • यह उदयपुर के वल्लभनगर तहसील में स्थित ताम्रयुगीन सभ्यता हैं।
  • इसकी खोज वी.एन.मिश्रा ने की थी।
  • इस सभ्यता के लोग बर्तन बनाने की कला में निपुण थें।
बागौर:-
  • यह भीलवाड़ा में स्थित हैं।
  • यहां पर उत्तरपाषाणकालीन संस्कृति के अवषेष मिलें हैं।
  • बागौर कोठारी नदी के तट पर स्थित हैं।
  • यहां के लोग आखेट पर निर्भर रहते थे।
सौथीं:-
  • यह बीकानेर में स्थित हैं।
  • इसकी खोज अमलानन्द घोष ने की थी।
  • यह कालीबंगा प्रथम के नाम से जानी जाती हैं।
नगर:-
  • यह टोंक में स्थित हैं। यहां से मालव सिक्के मिले हैं।
नगरी:-

  • यह चित्तौड़गढ़ में स्थित हैं।
  • इसका प्राचीन नाम माध्यमिका था।
  • यहां से षिवि जनपद के अवषेष मिले हैं।

राजस्थान की सभ्यताएँ

राजस्थान की सभ्यताएँ
राजस्थान की प्राचीन सभ्यताएँ
  •   ताम्रयुगीन सभ्यता
  •   लौहयुगीन सभ्यता
राजस्थान की ताम्रयुगीन सभ्यताएँ:-
कालीबंगा:-
  • कालीबंगा स्थल हनुमानगढ़ जिले में हैं। इसका शाब्दिक अर्थ हैं काली चूड़ियाँ (सिन्धु लिपि का शब्द) है।
  • यह एक नगरीय सभ्यता थी जो तत्कालीन सरस्वती और दृष्द्धती नदियों के किनारे पनपी वर्तमान में घग्घर नदी के तट पर स्थित हैं।
  • कालीबंगा की खोज अमलानन्द घोष ने सन् 1952 में की। इसके उत्खनन का कार्य बी.बी.लाल एव बी. के.थापर ने किया।
  • कालीबंगा एक किलेबन्द बस्ती थी। इसका परकोटा कच्ची ईंटों का था।
  • कालीबंगा से प्राकहड़प्पा हड़प्पाकालीन संस्कृति के अवषेष मिलें हैं।
  • प्राक हड़प्पा कच्ची बस्ती थी जो चारों ओर परकोटों से सुरक्षित थी। प्राकहड़प्पा से जूते हुए खेतों के प्रमाण, गेहूँ और जौं के साक्ष्य मिलें हैं।
हड़प्पाकालीन संस्कृति:-
  • पष्चिम का टीला:- उच्च टीला, निम्न गढ़, दुर्गराजा, प्रषासनिक वर्ग, धर्मगुरू
  • पूर्व का टीला:- पूर्व का टीला, नगरीयगढ़, निम्न टिला
  • पूर्व के टिलें से सात अग्निवेदिया मिली हैं, जो धर्म अनुष्ठान के प्रतीक हैं।
  • कालीबंगा से तांबा हड़प्पावासीयों को भेजा जाता था। कालीबंगा के उत्खनन से मिली सामग्री में मिट्टी के बर्तन, बेल की खण्डित मूर्ति, शंख, मणके, चुड़िया आदि प्रमुख हैं।
आहड़ सभ्यता:-
  • आहड़ जयपुर से 2/3 मील दूरी पर स्थित एक कस्बा हैं, जो बनास बेड़च के संगम पर स्थित हैं।
  • आहड़ सभ्यता कोताम्रवती नगरी’, ‘बनास संस्कृतितथा स्थानीय भाषा मेंधूलकोटकहते हैं।
  • इसी खोज सन् 1854 में आर.सी.अग्रवाल (रतनचन्द) ने की थी एवं इसका उत्खनन एच.डी.सांकलिवया ने किया था।
  • आहड़ सभ्यता का फैलाव उदयपुर, चित्तौड़गढ़, भीलवाड़ा डूंगरपुर में था।
  • यहां ताम्र उद्योग विकसित अवस्था में था। यहां से ताम्रछल्ले, चुड़िया, सुरमा डालने की सलाइयां मिले हैं।
  • आहड़ सभ्यता एक ग्रामीण सभ्यता थीं। यहां पर गेहूँ, जौ, चावल आदि उगाया जाता था।
गणेषवर सभ्यता:-
  • यहनीम का थानासीकर में कान्तली नदी के किनारे पनपी थी
  • इसकी खोज आर.सी.अग्रवाल (रतनचन्द) ने की थी।
  • गणेष्वर सभ्यता को ‘‘ताम्रयुगीन सभ्यताओं की जननी’’ कहते हैं।
  • यहां पर तीर, भालें, कुल्हाड़िया आदि मिलें हैं।
राजस्थान की लौहयुगीन सभ्यता:-
बैराठ (जयपुर):-
  • यह एक लौहयुगीन सभ्यता हैं। इसका प्राचीन नाम विराटनगर हैं। यह प्राचीन मत्स्य जनपद की राजधानी थी।
  • यहां से मध्यपाषाणकालीन उपकरण मिलें हैं।
  • बैराठ से स्वास्तिक अषोक का भाब्रु षिलालेख मिलें हैं।
  • कैप्टन बर्ट ने यहां बिजक की पहाड़ियों को खोजा, जिसे उन्होने बिजक डूंगरी नाम दिया।
  • बैराठ से मौर्यकालीन सभ्यता के अवषेष भी मिले हैं।
  • अषोक का भाब्रु षिलालेख ब्राह्यमी लिपी में लिया गया हैं। अषोक के मुल 13 षिलालेख हैं।
नोह (भरतपुर):-
  • यहां से कुषाणकालीन मौर्यकालीन सभ्यता के अवषेष मिलें हैं।
रेढ़ (टोंक):-
  • इसे प्राचीन राजस्थान का टाटानगर कहते हैं।
  • यहां से लौह-अयस्क के अवषेष प्राप्त हुए हैं। पूर्व गुप्तकालीन सभ्यता के अवषेष मिलें हैं।
सुनारी (झुंझुनूं):-
  • यह एक लौहयुगीन सभ्यता हैं। यहां से लोहे की भट्टीया मिली हैं।
रंगमहल:-
  • यह हनुमानगढ़ में घग्घर नदी के तट पर स्थित हैं।
  • इसकी खोज स्वीडष दल ने की यहां से कुषाणकालीन और गुप्तकालीन सभ्यता के अवषेष मिलें हैं।
  • यह एक ताम्रयुगीन सभ्यता हैं।
बालाथल:-
  • यह उदयपुर के वल्लभनगर तहसील में स्थित ताम्रयुगीन सभ्यता हैं।
  • इसकी खोज वी.एन.मिश्रा ने की थी।
  • इस सभ्यता के लोग बर्तन बनाने की कला में निपुण थें।
बागौर:-
  • यह भीलवाड़ा में स्थित हैं।
  • यहां पर उत्तरपाषाणकालीन संस्कृति के अवषेष मिलें हैं।
  • बागौर कोठारी नदी के तट पर स्थित हैं।
  • यहां के लोग आखेट पर निर्भर रहते थे।
सौथीं:-
  • यह बीकानेर में स्थित हैं।
  • इसकी खोज अमलानन्द घोष ने की थी।
  • यह कालीबंगा प्रथम के नाम से जानी जाती हैं।
नगर:-
  • यह टोंक में स्थित हैं। यहां से मालव सिक्के मिले हैं।
नगरी:-

  • यह चित्तौड़गढ़ में स्थित हैं।
  • इसका प्राचीन नाम माध्यमिका था।
  • यहां से षिवि जनपद के अवषेष मिले हैं।