राजस्थान की सिंचाई परियोजनाऐं

राजस्थान की परियोजनाएँ
सिंचाई परियोजनाऐं –   जल-विद्युत परियोजनाऐं
-   ताप-विद्युत परियोजनाऐं  -  अन्य विद्युत परियोजनाऐं:- पवन ऊर्जा, बायोगैस
सिंचाई परियोजनाऐं
चम्बल नदी घाटी परियोजना:-
  • पहली पंचवर्षीय योजना के दौरान स्थापित बहुउद्देष्यीय परियोजना हैं।
  • जो राजस्थान मध्यप्रदेष की संयुक्त परियोजना हैं।
  • इस परियोजना के अन्तर्गत तीन बांध बनाए गए हैं, जो निम्नलिखित हैं:-
  • गांधी सागर बांध (मध्यप्रदेष के मन्दसौर जिले में):-
  • इस बांध से सिंचाईं नहीं होती हैं।

राणाप्रताप सागर बांध (चित्तौड़गढ़ में):-
  • इससे भी सिंचाई नहीं होती हैं, केवल बिजली बनती हैं।
जवाहर सागर बांध (कोटा में):-
  • कोटा बैराज -कोटा में स्थापित हैं। इस बांध से नहरे
  • निकाली गई हैं। इस बांध के अन्तर्गत 8 लिफ्ट नहर हैं, जिनसे कोटा
  • बांरा को सिंचाई उपलब्ध होती हैं।
  • सवांईमाधोपुर में चम्बल नदी पर इंदिरा लिफ्ट परियोजना स्थित है। जिससे सवांईमाधोपुर, करौली को सिंचाई पेयजल मिलता हैं।
  • सर्वाधिक अपवाह तंत्र:- झालावाड़
  • सर्वाधिक बहाव क्षेत्र:- बहाव क्रमष चित्तौड़गढ़, कोटा, बूंदी, सवांईमाधोपुर,
  • करौली, धौलपुर में होता हैं।
माही नदी घाटी परियोजना:-
  • यह सन् 1971 में स्थापित की गई।
  • यह राजस्थान गुजरात की संयुक्त परियोजना हैं।
  • यह बांसवाड़ा में स्थित है।
बंाध का नाम:- ‘जमनालाल बजाज सागर परियोजना
  • कड़ाना बांध जो गुजरात डुंगरपुर की सीमा पर स्थित हैं।
  • जमनालाल बजाज सागर बांध का निर्माण राजस्थान सरकार द्वारा किया गया हैं।
  • इस बांध से बांसवाड़ा, डूंगरपुर को पेयजल सिंचाई उपलब्ध होती हैं।
  • माही नदी का 60 पानी राजस्थान को मिलता हैं।
  • कड़ाना बांध का निर्माण गुजरात सरकार द्वारा करवाया गया।
  • कड़ाना बांध से नर्मदा नहर को पानी मिलेगा।
नर्मदा नहर:-
  • सरदार सरोवर से निकाली गई हैं। इसकी लम्बाई 458 किलोमीटर हैं।
  • इस नहर में पानी मार्च 2008 में छोड़ा गया था।
  • यह पानी जालौर के शील गांव तक पहुंचा।
  • इस नहर से जालौर का सांचैर बाड़मेर की गुढ़ामलानी तहसील सिंचित होगी।
  • कालांतर में सम्पूर्ण बाड़मेर, जालौर सिरोही को सिंचाई के लिए पानी मिलेगा।
  • यह राजस्थान की एकमात्र परियोजना हैं, जिसमें फव्वारों से सिंचाई होगी।
  • इस नहर को कड़ाना बांध दोतीवाड़ा बांध (गुजरात, पष्चिमी बनास) से पानी मिलेगा।
जवांई बांध:-
  • पाली के सुमेरपुर तहसील में जवांई नदी पर स्थित हैं।
  • इसका निर्माण जोधपुर के महाराजा उम्मेद सिंह ने करवाया।
  • इसके इंजीनियर मोतीसिंह थे।
  • इसके निर्माण का उद्देष्य जोधपुर पाली शहर को पीने पानी उपलब्ध करवाना था।
सेई परियोजना:-
  • उदयपुर की घाटियों में सेई नदी पर एक बांध बनाया गया हैं। जिसका पानी इकट्ठा करके भूमिगत नहर के द्वारा जवांई बांध के लिए भेजा जाएगा।
  • जो गैर-मानसून अवधि में पीने का पानी सिंचाई उपलब्ध करवाएगा।
बीसलपुर बांध:-
  • बनास नदी पर टोंक में टोड़ारायसिंह तहसील के पास स्थित हैं।
  • यह बांध अभी भी निर्माणाधीन हैं।
  • इसका निर्माण विष्व बैंक की सहायता से किया जा रहा हैं।
  • बीसलपुर बांध से अजमेर जयपुर को पीने का पानी उपलब्ध होगा।
  • इस बांध का विाद टोरड़ी सागर की जलापूर्ति से संबंधित था। (2005 में विवाद हुआ जब सोहेला में पुलिस द्वारा लोगो पर गोलियां चलाई गई)
  • गोलीकाण्ड की जांच अनुपचन्द गोयल द्वारा की जा रही हैं।
ईसरदा बांध (ईसरदा):-
  • बनास नदी पर सवांईमाधोपुर टोंक के मध्य स्थित हैं।
  • इसका उद्देष्य टोंक और सवांईमाधोपुर के सीमावर्ती गांवों में पीने का पानी उपलब्ध करवाना हैं।
मेजा बांध:-
  • भीलवाड़ा में कोठारी नदी पर स्थित हैं।
  • इस बांध से भीलवाड़ा शहर को पीने का पानी उपलब्ध होता हैं। (ग्रीन माऊण्ट पार्क)
  • यह कंकरीट का बना बांध हैं।
पाचना बांध:-
  • यह मिट्टी का बना बांध हैं। यह उच्च तकनीक का बांध हैं जो अमरीकी तकनीक से बना हैं। यह करौली में स्थित हैं।
जाखम बांध:-
  • माही की सहायक नदी जाखम पर प्रतापगढ़ में स्थित हैं।
  • इस बांध का निर्माण सन् 1962 में करवाया गया था।
  • इस बांध का उद्देष्य जनजाति क्षेत्र का आर्थिक विकास करना हैं।
  • सन् 1992 में इस बांध को जनजाति उपयोजना के अन्तर्गत शामिल किया गया था।
  • 4.5 मेगावाट की दो जल-विद्युत की इकाईयां स्थापित हैं। इस बांध से सर्वांधिक फायदा आदिवासी कृषकों को हुआ, विषेषकार उदयपुर प्रतापगढ़ (चित्तौड़गढ़) के।
ओराई जल परियोजना (सिंचाई):-
  • चित्तौड़गढ़ में ओराई नदी (चम्बल की सहायक नदी) पर स्थित हैं।
  • इस बांध का उद्देष्य पहाड़ी क्षेत्र मंे मिट्टी के कटाव को रोकना हैं।
बांकली बांध:-
  • यह जालौर में, सुकड़ी कुलथाना नदियों के संगम पर स्थित हैं।
  • इस बांध में जालौर, पाली जोधपुर को पेयजल सिंचाई उपलब्ध होती हैं।
पार्वती योजना:-
  • यह धौलपुर मंे पार्वती नदी पर स्थित हैं।
  • इस बांध का निर्माण सन् 1959 में किया गया था।
  • इस बांध से नहर निकाली गई हैं जिससे धौलपुर भरतपुर को सिंचाई होती हैं।
  • पार्वती चम्बल की सहायक नदी हैं जो बांयी ओर से चम्बल मंे मिलती हैं।
सोम कागदर परियोजना:- यह उदयपुर मंे स्थापित परियेाजना हैं।
सोम-कमला अम्बा सिंचाई परियोजना:-
  • यह डूंगरपुर में स्थापित परियोजना हैं।
  • अड़वान बांध भीलवाड़ा में मानसी नदी पर
  • गंभीर बांध निम्बाहेड़ा (चित्तौड़गढ़) में गंभीरी नदी पर।
  • हरिषचन्द्र सागर बांध भीम सागर बांध भीलवाड़ा में।
  • लासड़िया बांध अजमेर में खारी नदी पर।
  • डाईया बांध उदयपुर में गोमती नदी पर।
  • गोठरा बांध बूदी में।
कायलाना बांध जोधपुर में स्थित हैं। इसके द्वारा जोधपुर को पीने का पानी उपलब्ध करवाया जाता हैं।

नहरें
गंग नहर:-
  • इसका निर्माण सन् 1927 में किया गया था।
  • यह पंजाब में हुसैनीवाला नामक स्थान से सतलज नदी से निकाली गई हैं।
  • राजस्थान में इस नहर से सर्वांधिक सिंचाई गंगानगर को, हनुमानगढ़, रायसीनगर, पदमपुर, अनूपगढ़ तक इसकी सिंचाई फैली हुई हैं।
  • इस नहर से लगभग 1.5 लाख हैक्टेयर में सिंचाई होती हैं।
  • इस नहर के मरम्मत के लिए गंगनहर लिंक पैनल का निर्माण किया गया हैं।
  • सन् 1980-81 में हरियाणा सरकार की सहायता 80 किलोमीटर लिंक चैनल करवाया गया।
भरतपुर नहर:-
  • इसके निर्माण का पहला प्रयास सन् 1906 में किया गया था। लेकिन सफलता नहीं मिली।
  • सन् 1960 में निर्माण कार्य शुरू हुआ। 1963-64 में निर्माण पुरा हुआ।
  • यह नहर आगरा के पास यमुना से निकाली गई हैं।
  • इस नहर से भरतपुर के डीग कामा में सिंचाई होती हैं।
गुडगांव नहर:-
  • यह हरियाणा और राजस्थान की संयुक्त परियोजना हैं।
  • इसका उद्गम हरियाणा के ओखला नामक स्थान से होता हैं।
  • इस नहर से भरतपुर के उत्तर मंे कामा पहाड़ी और जुरेरा में (जुरेरा) सिंचाई पीने का पानी मिलता हैं।
  • इसका निर्माण कार्य सन् 1980 में हुआ था।
राजस्थान से बाहर स्थित परियोजनाएं (भागीदारी):-
सरदार सरोवर , कड़ाना बांध , दांतीवाड़ा बांध (पष्चिमी बनास)
भाखड़ा नागल परियोजना:-
  • हिमाचल प्रदेष में सतलज नदी पर स्थित हैं।
  • यह परियोजना राजस्थान, पंजाब हरियाणा के मध्य की परियोजना हैं।
  • इस परियोजना से दिल्ली और हिमाचल प्रदेष को बिजली मिलती हैं।
  • राजस्थान की इस बांध से 15.22 % भागीदारी हैं।
  • राजस्थान को इस परियोजना से पानी इंदिरा गांधी नहर के माध्यम से मिलता हैं।
  • इसी परियोजना के अन्तर्गत रावी-व्यास का पानी भी राजस्थान को मिलता हैं।
  • व्यास नदी सतलज की सहायक हैं, जो हरि के बैराज नामक स्थान पर आकर सतलज में मिलती हैं।
  • रावी का पानी लिंक नहर द्वारा व्यास में गिराया जाता हैं। जिससे इसका अधिषेष पानी राजस्थान फीडर नहर को मिलता हैं।
सिद्धमुख नोहर परियोजना:-

  • यह एक नहर हैं जो सतलज नदी से निकाली गई हैं।
  • ठस नहर से हनुमानगढ़, चुरू, झुन्झनु और सीकर को पीने का पानी उपलब्ध होता हैं।
  • इसका षिलान्यास सन् 1986 में राजीवगांधी ने किया था।
  • इसमें पानी की शुरूआत सोनिया गांधी ने सन् 2002 में की।

राजस्थान की सिंचाई परियोजनाऐं

राजस्थान की परियोजनाएँ
सिंचाई परियोजनाऐं –   जल-विद्युत परियोजनाऐं
-   ताप-विद्युत परियोजनाऐं  -  अन्य विद्युत परियोजनाऐं:- पवन ऊर्जा, बायोगैस
सिंचाई परियोजनाऐं
चम्बल नदी घाटी परियोजना:-
  • पहली पंचवर्षीय योजना के दौरान स्थापित बहुउद्देष्यीय परियोजना हैं।
  • जो राजस्थान मध्यप्रदेष की संयुक्त परियोजना हैं।
  • इस परियोजना के अन्तर्गत तीन बांध बनाए गए हैं, जो निम्नलिखित हैं:-
  • गांधी सागर बांध (मध्यप्रदेष के मन्दसौर जिले में):-
  • इस बांध से सिंचाईं नहीं होती हैं।

राणाप्रताप सागर बांध (चित्तौड़गढ़ में):-
  • इससे भी सिंचाई नहीं होती हैं, केवल बिजली बनती हैं।
जवाहर सागर बांध (कोटा में):-
  • कोटा बैराज -कोटा में स्थापित हैं। इस बांध से नहरे
  • निकाली गई हैं। इस बांध के अन्तर्गत 8 लिफ्ट नहर हैं, जिनसे कोटा
  • बांरा को सिंचाई उपलब्ध होती हैं।
  • सवांईमाधोपुर में चम्बल नदी पर इंदिरा लिफ्ट परियोजना स्थित है। जिससे सवांईमाधोपुर, करौली को सिंचाई पेयजल मिलता हैं।
  • सर्वाधिक अपवाह तंत्र:- झालावाड़
  • सर्वाधिक बहाव क्षेत्र:- बहाव क्रमष चित्तौड़गढ़, कोटा, बूंदी, सवांईमाधोपुर,
  • करौली, धौलपुर में होता हैं।
माही नदी घाटी परियोजना:-
  • यह सन् 1971 में स्थापित की गई।
  • यह राजस्थान गुजरात की संयुक्त परियोजना हैं।
  • यह बांसवाड़ा में स्थित है।
बंाध का नाम:- ‘जमनालाल बजाज सागर परियोजना
  • कड़ाना बांध जो गुजरात डुंगरपुर की सीमा पर स्थित हैं।
  • जमनालाल बजाज सागर बांध का निर्माण राजस्थान सरकार द्वारा किया गया हैं।
  • इस बांध से बांसवाड़ा, डूंगरपुर को पेयजल सिंचाई उपलब्ध होती हैं।
  • माही नदी का 60 पानी राजस्थान को मिलता हैं।
  • कड़ाना बांध का निर्माण गुजरात सरकार द्वारा करवाया गया।
  • कड़ाना बांध से नर्मदा नहर को पानी मिलेगा।
नर्मदा नहर:-
  • सरदार सरोवर से निकाली गई हैं। इसकी लम्बाई 458 किलोमीटर हैं।
  • इस नहर में पानी मार्च 2008 में छोड़ा गया था।
  • यह पानी जालौर के शील गांव तक पहुंचा।
  • इस नहर से जालौर का सांचैर बाड़मेर की गुढ़ामलानी तहसील सिंचित होगी।
  • कालांतर में सम्पूर्ण बाड़मेर, जालौर सिरोही को सिंचाई के लिए पानी मिलेगा।
  • यह राजस्थान की एकमात्र परियोजना हैं, जिसमें फव्वारों से सिंचाई होगी।
  • इस नहर को कड़ाना बांध दोतीवाड़ा बांध (गुजरात, पष्चिमी बनास) से पानी मिलेगा।
जवांई बांध:-
  • पाली के सुमेरपुर तहसील में जवांई नदी पर स्थित हैं।
  • इसका निर्माण जोधपुर के महाराजा उम्मेद सिंह ने करवाया।
  • इसके इंजीनियर मोतीसिंह थे।
  • इसके निर्माण का उद्देष्य जोधपुर पाली शहर को पीने पानी उपलब्ध करवाना था।
सेई परियोजना:-
  • उदयपुर की घाटियों में सेई नदी पर एक बांध बनाया गया हैं। जिसका पानी इकट्ठा करके भूमिगत नहर के द्वारा जवांई बांध के लिए भेजा जाएगा।
  • जो गैर-मानसून अवधि में पीने का पानी सिंचाई उपलब्ध करवाएगा।
बीसलपुर बांध:-
  • बनास नदी पर टोंक में टोड़ारायसिंह तहसील के पास स्थित हैं।
  • यह बांध अभी भी निर्माणाधीन हैं।
  • इसका निर्माण विष्व बैंक की सहायता से किया जा रहा हैं।
  • बीसलपुर बांध से अजमेर जयपुर को पीने का पानी उपलब्ध होगा।
  • इस बांध का विाद टोरड़ी सागर की जलापूर्ति से संबंधित था। (2005 में विवाद हुआ जब सोहेला में पुलिस द्वारा लोगो पर गोलियां चलाई गई)
  • गोलीकाण्ड की जांच अनुपचन्द गोयल द्वारा की जा रही हैं।
ईसरदा बांध (ईसरदा):-
  • बनास नदी पर सवांईमाधोपुर टोंक के मध्य स्थित हैं।
  • इसका उद्देष्य टोंक और सवांईमाधोपुर के सीमावर्ती गांवों में पीने का पानी उपलब्ध करवाना हैं।
मेजा बांध:-
  • भीलवाड़ा में कोठारी नदी पर स्थित हैं।
  • इस बांध से भीलवाड़ा शहर को पीने का पानी उपलब्ध होता हैं। (ग्रीन माऊण्ट पार्क)
  • यह कंकरीट का बना बांध हैं।
पाचना बांध:-
  • यह मिट्टी का बना बांध हैं। यह उच्च तकनीक का बांध हैं जो अमरीकी तकनीक से बना हैं। यह करौली में स्थित हैं।
जाखम बांध:-
  • माही की सहायक नदी जाखम पर प्रतापगढ़ में स्थित हैं।
  • इस बांध का निर्माण सन् 1962 में करवाया गया था।
  • इस बांध का उद्देष्य जनजाति क्षेत्र का आर्थिक विकास करना हैं।
  • सन् 1992 में इस बांध को जनजाति उपयोजना के अन्तर्गत शामिल किया गया था।
  • 4.5 मेगावाट की दो जल-विद्युत की इकाईयां स्थापित हैं। इस बांध से सर्वांधिक फायदा आदिवासी कृषकों को हुआ, विषेषकार उदयपुर प्रतापगढ़ (चित्तौड़गढ़) के।
ओराई जल परियोजना (सिंचाई):-
  • चित्तौड़गढ़ में ओराई नदी (चम्बल की सहायक नदी) पर स्थित हैं।
  • इस बांध का उद्देष्य पहाड़ी क्षेत्र मंे मिट्टी के कटाव को रोकना हैं।
बांकली बांध:-
  • यह जालौर में, सुकड़ी कुलथाना नदियों के संगम पर स्थित हैं।
  • इस बांध में जालौर, पाली जोधपुर को पेयजल सिंचाई उपलब्ध होती हैं।
पार्वती योजना:-
  • यह धौलपुर मंे पार्वती नदी पर स्थित हैं।
  • इस बांध का निर्माण सन् 1959 में किया गया था।
  • इस बांध से नहर निकाली गई हैं जिससे धौलपुर भरतपुर को सिंचाई होती हैं।
  • पार्वती चम्बल की सहायक नदी हैं जो बांयी ओर से चम्बल मंे मिलती हैं।
सोम कागदर परियोजना:- यह उदयपुर मंे स्थापित परियेाजना हैं।
सोम-कमला अम्बा सिंचाई परियोजना:-
  • यह डूंगरपुर में स्थापित परियोजना हैं।
  • अड़वान बांध भीलवाड़ा में मानसी नदी पर
  • गंभीर बांध निम्बाहेड़ा (चित्तौड़गढ़) में गंभीरी नदी पर।
  • हरिषचन्द्र सागर बांध भीम सागर बांध भीलवाड़ा में।
  • लासड़िया बांध अजमेर में खारी नदी पर।
  • डाईया बांध उदयपुर में गोमती नदी पर।
  • गोठरा बांध बूदी में।
कायलाना बांध जोधपुर में स्थित हैं। इसके द्वारा जोधपुर को पीने का पानी उपलब्ध करवाया जाता हैं।

नहरें
गंग नहर:-
  • इसका निर्माण सन् 1927 में किया गया था।
  • यह पंजाब में हुसैनीवाला नामक स्थान से सतलज नदी से निकाली गई हैं।
  • राजस्थान में इस नहर से सर्वांधिक सिंचाई गंगानगर को, हनुमानगढ़, रायसीनगर, पदमपुर, अनूपगढ़ तक इसकी सिंचाई फैली हुई हैं।
  • इस नहर से लगभग 1.5 लाख हैक्टेयर में सिंचाई होती हैं।
  • इस नहर के मरम्मत के लिए गंगनहर लिंक पैनल का निर्माण किया गया हैं।
  • सन् 1980-81 में हरियाणा सरकार की सहायता 80 किलोमीटर लिंक चैनल करवाया गया।
भरतपुर नहर:-
  • इसके निर्माण का पहला प्रयास सन् 1906 में किया गया था। लेकिन सफलता नहीं मिली।
  • सन् 1960 में निर्माण कार्य शुरू हुआ। 1963-64 में निर्माण पुरा हुआ।
  • यह नहर आगरा के पास यमुना से निकाली गई हैं।
  • इस नहर से भरतपुर के डीग कामा में सिंचाई होती हैं।
गुडगांव नहर:-
  • यह हरियाणा और राजस्थान की संयुक्त परियोजना हैं।
  • इसका उद्गम हरियाणा के ओखला नामक स्थान से होता हैं।
  • इस नहर से भरतपुर के उत्तर मंे कामा पहाड़ी और जुरेरा में (जुरेरा) सिंचाई पीने का पानी मिलता हैं।
  • इसका निर्माण कार्य सन् 1980 में हुआ था।
राजस्थान से बाहर स्थित परियोजनाएं (भागीदारी):-
सरदार सरोवर , कड़ाना बांध , दांतीवाड़ा बांध (पष्चिमी बनास)
भाखड़ा नागल परियोजना:-
  • हिमाचल प्रदेष में सतलज नदी पर स्थित हैं।
  • यह परियोजना राजस्थान, पंजाब हरियाणा के मध्य की परियोजना हैं।
  • इस परियोजना से दिल्ली और हिमाचल प्रदेष को बिजली मिलती हैं।
  • राजस्थान की इस बांध से 15.22 % भागीदारी हैं।
  • राजस्थान को इस परियोजना से पानी इंदिरा गांधी नहर के माध्यम से मिलता हैं।
  • इसी परियोजना के अन्तर्गत रावी-व्यास का पानी भी राजस्थान को मिलता हैं।
  • व्यास नदी सतलज की सहायक हैं, जो हरि के बैराज नामक स्थान पर आकर सतलज में मिलती हैं।
  • रावी का पानी लिंक नहर द्वारा व्यास में गिराया जाता हैं। जिससे इसका अधिषेष पानी राजस्थान फीडर नहर को मिलता हैं।
सिद्धमुख नोहर परियोजना:-

  • यह एक नहर हैं जो सतलज नदी से निकाली गई हैं।
  • ठस नहर से हनुमानगढ़, चुरू, झुन्झनु और सीकर को पीने का पानी उपलब्ध होता हैं।
  • इसका षिलान्यास सन् 1986 में राजीवगांधी ने किया था।
  • इसमें पानी की शुरूआत सोनिया गांधी ने सन् 2002 में की।